मजदूरों के शहर पहुँचे मोदी Featured

Saturday, 14 December 2019 21:07 Written by  Published in सभी खबरे Read 231 times

कानपुर से दिवस पांडे की रिपोर्ट 

14 दिसंबर 2019 की सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काफिला गंगा तट पर बसे श्रमिक शहर कानपुर पहुँचा , कानपुर हाल ही में सर्वाधिक प्लास्टिक कचरा पैदा करने वाले शहरों में शामिल हुआ है , इससे पहले कानपुर पर विश्व का सर्वाधिक प्रदूषित शहर होने का ठप्पा भी एक विदेशी संस्था द्वारा लगाया जा चुका है | एक तरफ देश के राष्ट्रपति जो स्वयं कानपुर से हैं , वे हाल ही में जब एक सामाजिक कार्यक्र्म में शिरकत करने कानपुर पहुँचे तो उन्होने भी बढ़ते प्रदूषण की चिंता जताई | वहीं प्रदेश की योगी सरकार अब तक गंगा सफाई के नाम पर भारी बजट आवंटित कर चुकी है | ऐसे में कानपुर की मेयर प्रमिला पांडे (भाजपा) के खाते में एक सराहनीय उपलब्धि यह है कि सीसामऊ स्थित एशिया का सबसे बड़ा नाला जो कि सीधा गंगा में गिरता था उसको अब सफलता पूर्वक बंन्द कराया जा चुका है |  गंगा में प्रदूषण के सबसे बड़े कलंक बने सीसामऊ नाला को जब प्रधानमंत्री ने बंद पड़ा देखा, तो इसको लेकर सभी की सराहना की. नाले के सामने लगाई गई फ्लोटिंग जेट्टी पर एक मिनट के अंदर उन्होंने सीसामऊ नाला को देखने के साथ अगल-बगल भी देखा | इस दौरान नगर विकास विभाग के प्रमुख सचिव उन्हें नाले से संबंधित जानकारी देते रहे |
प्रधानमंत्री की नावों का काफिला गंगा की लहरों पर नौकायन करता रहा | 

मोदी जैसे ही अटल घाट से नाव पर सवार हुए तो उसके साथ यह एक ऐतिहासिक लम्हा भी शहर के साथ जुड़ गया | कानपुर में पहली बार किसी प्रधानमंत्री ने गंगा की लहरों पर नौकायन किया है | गंगा की लहरों पर नावों का यह कारवां देखकर भी स्थानीय लोग कौतुहल से भरे रहे |

पीएम के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी रहे | नाव में पीएम के बगल में बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी बैठे जबकि सामने की तरफ यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के सीएम बैठे | नाव चलने से पहले पीएम को          सुर​क्षाकर्मियों ने लाइफ जैकेट भी पहनाई |
पीएम जब वापस सीढ़ियां चढ़ रहे थे तो अचानक उनका संतुलन बिगड़ गया | अचानक सीढ़ियों पर लड़खड़ाए पीएम को देखकर वहां हड़कंप मच गया | पीएम के साथ चल रहे एसपीजी के जवानों ने उन्हें संभाला| हालांकि पीएम के चेहरे पर कोई शिकन नहीं देखी गई | पूरे जोश से उठकर उन्होंने सभी से विदा ली| दोपहर तीन बजकर 40 मिनट से पीएम को ​काफिला अटल घाट से वापस रवाना हो गया |
पीएम ने अटल घाट से सीसामउ नाला तक नौकायन में घाट किनारे लोगों को भी निराश नहीं किया , घाट किनारे खड़े लोगों ने जब पीएम को देखकर हाथ हिलाए तो पीएम ने भी उनका अभिवादन​ किया |