टेक्नोलॉजी

Apple ने की अबतक की सबसे बड़ी कार्रवाई, चाइनीज ऐप स्टोर से डिलीट किए 39,000 गेम ऐप्स

Apple ने चाइनीज ऐप स्टोर से डिलीट किए 39,000 गेम ऐप्स

Apple ने चाइनीज ऐप स्टोर से डिलीट किए 39,000 गेम ऐप्स

Apple ने एक बार फिर से चीन में बड़ी कार्रवाई करते हुए अपने ऐप स्टोर से 39,000 गेमिंग ऐप्स को हटा दिया है. चाइनीज ऐप्स पर एक दिन में Apple द्वारा होने वाली यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है.

Apple ने एक बार फिर से चीन में बड़ी कार्रवाई करते हुए अपने ऐप स्टोर से 39,000 गेमिंग ऐप्स को हटा दिया है. चाइनीज ऐप्स पर एक दिन में Apple द्वारा होने वाली यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है. Apple ने गेमिंग ऐप्स को ऐप स्टोर से हटाने का फैसला लाइसेंस जमा ना करने की वजह से लिया है. अभी तक लाइसेंस की कमी के कारण एप्पल ने कुल 46,000 ऐप्स को ऐप स्टोर से हटाया है.

दरअसल, Apple ने सभी गेम डेवलपर्स को लाइसेंस दिखाने के लिए 31 दिसंबर आखिरी तारीख दी गई थी लेकिन डेवलपर्स ने कोई लाइसेंस नहीं दिखाया जिसके बाद Apple ने यह फैसला लिया है. रिसर्च फर्म Qimai के मुताबिक 1,500 ऐप्स में से केवल 74 ऐप्स ने तय समय पर लाइलेंस जमा किए हैं.

ये भी पढ़ें : Vodafone-Idea यूजर ध्यान दें! दिल्ली में इस से दिन 3G सिम सपोर्ट करना कर देगी बंद, 4G में तुरंत कराएं अपग्रेड

डिलीट किए गए ऐप में Ubisoft, NBA 2K20 जैसे एप्स शामिल हैं. हालांकि Apple ने इस कार्रवाई को लेकर आधिकारिक तौर पर कोई सफाई नहीं दी है.31 दिसंबर तक की थी समय-सीमा
Apple ने इसी साल फरवरी में सभी गेम डेवलपर्स को लाइसेंस दिखाने के लिए 30 जून तक का वक्त दिया था. कंपनी ने बाद में इस समय सीमा को बढ़ाकर 31 दिसंबर कर दिया था. लेकिन डेवलपर्स ने कोई लाइसेंस नहीं दिखाया जिसके बाद Apple ने यह फैसला लिया है. चीन के एंड्रॉयड ऐप स्टोर ने लाइसेंस पर नियमों का अनुपालन किया है.

ये भी पढ़ें : Google ने ऑनलाइन स्टोर में जोड़ा Subscription सेक्शन, इससे मिलेगा ये फायदा

इससे पहले इसी साल जून में एपल ने चीन के हजारों एप के अपडेट को सस्पेंड कर दिया था. एपल ने यह फैसला सरकारी लाइसेंस की कमी के कारण किया था. एपल के इस फैसले से 60,000 से अधिक गेमिंग ऐप्स का अपडेट सस्पेंड हो गया था. साल 2010 से लेकर अभी तक सिर्फ 43,000 डेवलपर्स ने ही लाइसेंस जमा किए हैं.




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button