Sunday, May 19, 2024

‘नागरिक केंद्रित सरकार’ विषय पर कार्यशाला का आयोजन

आज दिनांक 18 मार्च, 2024 को इंडियन इंस्टीट्यूट आफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, कानपुर ब्रांच एवं राजनीति शास्त्र विभाग, वी.एस.एस.डी. कॉलेज, कानपुर के संयुक्त तत्वाधान में सिटिजन सेंट्रिक गवनेंसः डाइमेंशन एंड एप्रोचेस विषय पर एक राष्ट्रीय कार्यशाला का उ‌द्घाटन मुख्य अतिथि माननीय डॉ अनिल कुमार यादव, कुलसचिव, छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय, कानपुर एवं प्रबंध समिति की संयुक्त सचिव सी.ए. नीतू सिंह के द्वारा दीप प्रज्वलन कर किया गया। उ‌द्घाटन के उपरांत भारतीय लोक प्रशासन संस्थान कानपुर ब्रांच के सचिव डॉक्टर जी.एल. श्रीवास्तव ने कार्यशाला में आए हुए सभी मंचाशीन आथियो, विद्वतजनों, शोधार्थियों, विद्यार्थियों का स्वागत करते हुए कहा कि आज के समय में इस बात की प्रबल आवश्यकता है की शासन की व्यवस्था इस प्रकार से हो कि जनता को किसी भी प्रकार समस्या न हों तथा जनता उससे पूर्णतः लाभान्वित हो। इसी उद्देश्य से आज की कार्यशाला का विषय सिटिजन सेंट्रिक गवर्नेस डाइमेंशन एंड एप्रोचेज रखा गया है।

कार्यक्रम में इंडियन इंस्टीट्यूट आफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, कानपुर ब्रांच के चेयरमैन डॉक्टर एन. के. सक्सेना ने भारतीय लोक प्रशासन संस्थान, नई दिल्ली के क्रियाकलाप तथा उद्देश्यों के संबंध में सभागार में उपस्थित सभी लोगों को विस्तृत रूप से अवगत कराया। तत्पश्चात विषय परिवर्तन का कार्य कॉलेज के प्राचार्य प्रोफेसर विपिन चन्द्र कौशिक जो खुद भी राजनीति शास्त्र के विद्वान हैं, ने अपने की-नोट व्याख्यान में प्राचीन आदर्श राज्यों में नागरिक की स्थिति का उल्लेख करते हुए राज्य एवं नागरिक संबंधों का सामयिक सन्दर्भों में विशद विश्लेषण किया। लोकतन्त्र में सिटिजन सेण्ट्रिक गवर्नेन्स हेतु सिटिजन चार्टर एक्ट को सर्वाधिक महत्वपूर्ण बताया। समाज की बढ़ती जागरूकता भी प्रशासनिक गतिविधियों को तीव्र करती है। आज ई-प्रशासन एवं हाईटेक शासन व्यवस्था, में नागरिकों को ध्यान में रखते हुए नीति बनाने की आवश्यकता है।

मुख्य अतिथि के रूप में पधारे छत्रपति शाहू जी महाराज वि०वि०, कानपुर के माननीय कुलसचिव डॉ अनिल कुमार यादव ने नागरिक सुरक्षा के लिए शुसाशन एवं राजनीतिक गतिविधियों को जिम्मेदार माना। उन्होंने कहां कि आज भारत आजादी के अमृतकाल में हैं और निरन्तर आत्म निर्भरता की ओर बढ़ रहा है। सरकार की सभी जनोपयोगी योजनाएं प्रशासन एवं डी.बी.टी. के माध्यम से नागरिकों तक पहुंच रही है। नागरिक केन्द्रित प्रशासन सर्वजनिक हितों की रक्षा करती है और नागरिकों के जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाता है। यादव जी ने बताया कि विश्वविद्यालय भी डिजिटल माध्यम से छात्र-छात्राओं को सभी प्रकार के सुविधा उपलब्ध करा रहा है।

मुख्य अतिथि की उ‌द्बोधन के उपरांत भारतीय लोक प्रशासन संस्थान, कानपुर ब्रांच एवं वी०एस०एस०डी, कालेज, कानपुर के मध्य एम०ओ०यू० पर भी हस्ताक्षर किया गया तथा मंच पर ही एम०ओ०यू० की एक कॉपी एक दूसरे को हस्तांतरित की गई। यह एम.ओ.यू. 5 वर्षों के लिए किया गया है।

राजनीति शास्त्र विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ विजय पाल ने आए हुए सभी अतिथियों को धन्यवाद ज्ञापित किए। इस कार्यशाला का संचालन राजनीति शास्त्र विभाग के प्रोफेसर डॉक्टर इंद्रमणि ने किया। इस अवसर पर भारतीय लोक प्रशासन संस्थान के कार्यकारिणी सदस्य सी०ए० विनय जैन, कोषाध्यक्ष प्रो. राजेश तिवारी, वरिष्ठ उपाध्यक्ष आशुतोष सक्सैना, डॉ० विभा दीक्षित, डॉक्टर जे.पी. श्रीवास्तव, प्रोफेसर आर.के. त्रिवेदी, डॉक्टर कपिल बाजपेई, एवं राजनीति शास्त्र विभाग के श्री नमन श्रीवास्तव श्री सचिन जायसवाल, श्री आनंद गौरव, ईशा त्रिपाठी, रितेश कुमार इत्यादि एवं महाविद्यालय के अन्य विषयों के शिक्षक तथा विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Advertisement
Gold And Silver Updates
Rashifal
Market Live
Latest news
अन्य खबरे