Monday, May 20, 2024

गूगल ने जारी की मोबाइल उपभोक्ताओं के लिए चेतावनी

गूगल ने स्मार्टफोन ऐप्स में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के यूज से जुड़े सिक्योरिटी और प्राइवेसी जोखिमों के बारे में सभी Android और iPhone यूजर्स के लिए एक चेतावनी जारी की है। Google के जेमिनी ऐप प्राइवेसी हब ब्लॉग के माध्यम से, यूजर्स से जेमिनी ऐप्स पर किसी भी चैट के दौरान अपनी पर्सनल डिटेल्स एंटर न करें का आग्रह किया है।

पर्सनल डिटेल शेयर न करें
जेमिनी ऐप्स एक सुपरचार्ज्ड Google Assistant के समान ऐप है। ब्लॉग में कंपनी ने कहा है कि अपनी Ai के साथ चैट्स में पर्सनल डिटेल्स या कोई भी ऐसा डाटा एंटर न करें जिसे आप नहीं चाहेंगे कि कोई प्रोडक्ट, सर्विस और मशीन-लर्निंग टेक्नोलॉजी को बेहतर बनाने के लिए यूज करे।

डिलीट करने के बाद भी सेव है डाटा!
पर्सनल डिटेल्स शेयर करने से क्यों बचना चाहिए यह बताते हुए Google ने कहा कि जेमिनी ऐप्स एक्टिविटी को हटाने के बाद भी उन्हें एक फिक्स्ड पीरियड के लिए सेव रहता है। इसके अलावा, टेक दिग्गज ने बताया कि चैट्स, जिसमें आपकी पर्सनल डिटेल्स भी शामिल हो सकती है, डिलीट होने के बाद भी तीन साल तक सेव रखी जाती हैं। जेमिनी ऐप्स एक्टिविटी बंद होने के बाद भी, यूजर्स की बातचीत उनके अकाउंट में 72 घंटों तक सेव रहता है।

क्या है गूगल जेमिनी ये भी समझ लो… 
जो लोग नहीं जानते उन्हें बता दें कि Google जेमिनी, OpenAI के GPT की तरह AI मॉडल है। हालांकि यह चैट GPT से काफी अलग है क्योंकि इसमें आपको एलएलएम की तरह टेक्स्ट को समझ और जनरेट करने की भी सुविधा मिलती है, यह तस्वीरें, ऑडियो, वीडियो और कोड जैसी अन्य कई तरह की जानकारी को समझ सकता है, साथ ही उन्हें ऑपरेट और कंबाइन भी कर सकता है। उदाहरण के लिए, आप इससे यह भी जान सकते हैं कि इस तस्वीर में क्या चल रहा है? जिसके बाद यह आपको उसकी सारी जानकारी देगा।

Advertisement
Gold And Silver Updates
Rashifal
Market Live
Latest news
अन्य खबरे